रोगजंतूंचा प्रादुर्भाव टाळण्यासाठी वेळोवेळी साबणाने हात धुण्याची सवय आवश्यक

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत


मुंबई, दि. 18 : मानवी हात हा वेगवेगळ्या रोगजंतुंचा वाहक ठरतो. कोरोना विषाणुच्या पार्श्वभूमीवर सध्या वेळोवेळी हात धुण्याचे महत्त्व अधोरेखीत झाले आहे. पण फक्त कोरोनाच्या काळातच नव्हे तर इतर वेळीही लोकांनी वेळोवेळी साबणाने हात धुणे गरजेचे आहे, असे आवाहन आरोग्य विभागातर्फे करण्यात येत आहे. यातून आपण नानाविध आजार टाळू शकतो. पण सध्या कोरोनाला अटकाव करण्यासाठी लोकांनी साबणाने वेळोवेळी हात धुण्याची सवय अंगिकारणे गरजेचे झाले आहे. 

साबणाने हात केव्हा धुवावेत ? जेवणापूर्वी, शौचाहून आल्यानंतर, स्वयंपाकापूर्वी, बाळाला भरविण्यापूर्वी, बाळाचा शौच स्वच्छ केल्यानंतर, प्रवास संपवून घरात, कार्यालयात आल्यानंतर इत्यादी वेळी.

हात धुण्याच्या सवयीने आपण अतिसार, हगवण, पटकी, विषमज्वर, पोलिओ, काविळ, स्वाईन फ्लू, कोरोना विषाणू इत्यादी रोग टाळू शकतो

आजार टाळण्यासाठी स्वच्छतेविषयक काळजी सर्व काळात घेणे आवश्यक असते. किंबहुना स्वच्छता ही आपली जीवनशैली बनणे गरजेचे आहे. पण बरेचजण याविषयी फक्त साथीच्या काळातच काळजी घेताना दिसतात. फक्त साथीच्या काळातच नव्हे तर इतर वेळीही स्वच्छतेविषयक काळजी घेणे तसेच वेळोवेळी साबणाने हात धुणे अत्यंत गरजेचे आहे.

हात का व केव्हा धुवावेत ?

·      आपले हात नेहमीच घामेजलेले असतात. नानाविध वस्तुंशी हातांचा संपर्क येत असतो. त्यावेळी त्या वस्तुवरील घाण, रोगजंतू हातातील घामात मिसळतात. हातावर घाणीचा बारीक थर व रोगजंतू जमतात. जेवणापूर्वी हात न धुतल्यास ही घाण व रोगजंतू थेट पोटात जाऊन विविध रोगास कारणीभूत ठरतात. त्यामुळे जेवणापूर्वी साबणाने हात धुणे महत्त्वाचे ठरते.
·      बाळास भरविण्यापूर्वी साबणाने हात धुणे अत्यावश्यक.
·      स्वयंपाकापूर्वी साबणाने हात धुणे अत्यावश्यक.
·      मुंबईतील बहुतांश लोक दररोज रेल्वे अथवा बसने प्रवास करतात. रेल्वे, बसमध्ये हात पकडण्यासाठी लावण्यात आलेले हँगर अनेक व्यक्तिंच्या हाताच्या स्पर्शाने, त्यातील घाम व घाणीने दूषित झालेले असतात. आपल्या हातांचा या हँगरशी संपर्क येतो व आपले हातही दूषित होतात. त्यामुळे प्रवास संपल्यानंतर आपले हात साबणाने स्वच्छ धुवावेत.
·      नेहमी प्रवास करणाऱ्यांनी आपल्या सोबत पेपरसोप ठेवावा व हात धुण्यासाठी त्याचा वेळोवेळी वापर करावा.

हात धुण्याची पद्धती

फक्त पाण्याने हात धुऊ नयेत. यासाठी पाण्याबरोबर साबणाचा वापर करावा. सुरुवातीस पाण्याने हात ओला करावा. त्यानंतर साबणाने तळहातावर फेस करावा. हा फेस बोटे, बोटांच्या खाची, तळहात व मनगटापर्यंत सुमारे २० ते ३० सेकंद चोळावा. नंतर हा फेस पाण्याने स्वच्छ धुवावा. तद्नंतर हात वाळवावेत किंवा स्वच्छ कापडाने पुसावेत.

हात कशाने धुवावेत ?

हात साबणाने किंवा (साबण उपलब्ध नसल्यास राखेने) धुवावेत. हात धुण्यासाठी लिक्विड सोप किंवा प्रवासादरम्यान पेपर सोपही वापरता येईल.

हे टाळा

हात मातीने अजिबात धुवू नयेत. मातीमध्ये रोगजंतू असण्याची शक्यता असते.  त्यामुळे यातून रोगप्रसार होण्याची शक्यता असते.

हे पाळा

·      हात धुण्याबरोबर हाताची नखे नियमित कापणे सुद्धा तितकेच महत्त्वाचे आहे. कारण बरेच रोगजंतू व घाण नखात अडकते. जेवताना हे रोगजंतू किंवा घाण पोटात जाते व विविध रोगास कारणीभूत ठरते.
·      शौचविधीहून आल्यानंतर हात धुतल्याने साबणसुद्धा दूषित होण्याची शक्यता असते. त्यामुळे शौचाहून आल्यानंतर हात धुण्यासाठी वेगळा साबण वापरावा. लिक्विड सोप वापरल्यास अधिक चांगले.

हस्तांदोलन करताना सावधान !

ओळखीच्या व्यक्ती भेटल्यानंतर परस्परांना हस्तांदोलन करण्याची पद्धती सर्वत्र आढळते.  खरे तर ही पाश्चिमात्य पद्धती आहे. एका सर्व्हेक्षणानुसार हस्तांदोलन करताना विविध रोगजंतुंचा एका हाताकडून दुसऱ्या हाताकडे प्रसार होऊ शकतो. बऱ्याच व्यक्तींना हात धुण्याची सवय नसते. अशा व्यक्तींचे हात रोगजंतुयुक्त असू शकतात. त्यामुळे अशा व्यक्तींशी हस्तांदोलन केल्यास आपले हातसुद्धा घाण व रोगजंतुंनी प्रभावित होऊ शकतात. त्यामुळे हस्तांदोलन करताना सावधानता बाळगलेली बरी.

जेवण करण्यापूर्वी आणि मलविसर्जनानंतर स्वच्छ हात धुतल्यामुळे अतिसाराशी संबंधित रोग 50 टक्क्यांनी कमी झाल्याचे एका पाहणीत आढळून आले आहे.

जागतिक हात धुवा दिन

वेळोवेळी हात धुण्याबाबत अनेक लोकांमध्ये कमालीची अनास्था असल्याचे निदर्शनास आले आहे. त्यामुळे याबाबत जनजागृती करण्यासाठी युनिसेफमार्फत दरवर्षी 15 ऑक्टोबर रोजी जागतिक हात धुवा दिनसाजरा करण्यात येतो. राज्यात यानिमित्त शाळा, महाविद्यालयांमध्ये दुपारच्या भोजनापूर्वी प्रत्येकाने साबणाने हात धुण्याची मोहीम राबविण्यात येते. तसेच संबंधित जिल्ह्यातील स्वच्छता अभियान कक्षांच्यावतीने साबणाने हात धुण्याच्या सवयीच्या प्रचारार्थ विशेष जनजागृती अभियान राबविण्यात येतात. याअंतर्गत मेळावे, कार्यशाळा, जनजागृती सभा, जनजागृती स्टॉल, शाहिरांचे कार्यक्रम, माहितीपत्रकांचे वितरण अशा माध्यमातून साबणाने वेळोवेळी हात धुण्याचा संदेश सर्वदूर पोहोचविण्यात येतो. स्वच्छतेची शपथ घेऊन आदर्श जीवनाचा संकल्प केला जातो. आपणही आतापासून हा संकल्प पाळूया !
००००
इर्शाद बागवान / विभागीय संपर्क अधिकारी / दि.18.3.2020



रोगाणुओं के प्रसार को रोकने के लिए
समय-समय पर साबुन से हाथों को नियमित रूप से धोने की आदत आवश्यक
 मुंबई, दि.18: मानव हाथ विभिन्न रोगाणुओं के वाहक होते हैं।  कोरोना वायरस के मद्देनजर समय-समय पर हाथ धोने का महत्व रेखांकित हुआ है।  लेकिन स्वास्थ्य विभाग का ऐसा आवाहन है कि लोगों को कोरोना प्रसार के काल में ही नहीं बल्कि समय-समय पर साबुन से हाथ धोने की जरूरत है। ऐसा कर के हम विभिन्न बीमारियों को रोक सकते हैं।  लेकिन मौजूदा समय में कोरोना को रोकने के लिए लोगों को समय-समय पर साबुन से हाथ धोने की आदत डालना जरूरी है।
साबुन से हाथ कब धोएँ?
 भोजन से पहले, शौच के बाद, खाना पकाने से पहले, बच्चे को खिलाने और दुग्धपान से पहले, बच्चे का शौच साफ करने के बाद, यात्रा पूरी होने पर, घर या कार्यालय आने पर आदि।
 हाथ धोने की आदत से हम अतिसार, दस्त, कॉलरा, टाइफाइड बुखार, पोलियो, पीलिया, स्वाइन फ्लू, कोरोना वायरस आदि रोगों की रोकथाम कर सकते हैं।
बीमारी से बचाव के लिए हर समय स्वच्छता संबंधी सावधानी रखनी चाहिए।  वास्तव में, स्वच्छता हमारी जीवन शैली बनना आवश्यक  है।  लेकिन बहुत से लोग इस बारे में केवल संसर्गजन्य रोग के काल में ही सावधानी रखते हैं। केवल संसर्गजन्य रोग के दौरान ही नहीं बल्कि अन्य समय पर भी समय-समय पर साबुन से अपने हाथ धोने के साथ-साथ स्वच्छता का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।
● हाथ क्यों और कब धोने हैं?
 ·हमारे हाथ हमेशा पसीने से भीगे होते हैं।  विभिन्न वस्तुओं के साथ हाथ का संपर्क होता है।  उस समय वस्तु पर की गंदगी और रोगाणु  हाथों  की नमी में मिल जाते हैं। हाथों पर गंदगी की बारीक पर्त और रोगाणु  जम जाते हैं।  भोजन से पहले अपने हाथ न धोने की स्थिति में वह गंदगी और रोगाणु सीधे  पेट में पहुँच कर विभिन्न रोगों के कारण बनते हैं। इसलिए भोजन से पहले अपने हाथों को साबुन से धोना जरूरी है।
 · स्तनपान और बच्चों को खिलेने से पहले साबुन से हाथ धोना आवश्यक है।
 · खाना पकाने से पहले साबुन से हाथ धोना आवश्यक है।
 मुंबई में ज्यादातर लोग रेलवे या बस से प्रतिदिन यात्रा करते हैं।  ट्रेन, बस में हाथ से पकड़ने के लिए  जो हैंगर इस्तेमाल किए जाते हैं वे अनेक लोगों के हाथों के स्पर्श से पसीने और गंदगी से दूषित होते हैं। आपके हाथ इस हैंगर के संपर्क में आते हैं और आपके हाथ दूषित हो जाते हैं।  इसलिए यात्रा के बाद अपने हाथों को साबुन से धोएं।
 · नियमित  यात्रा करने वालों को हमेशा अपने साथ एक पेपर सोप रखना चाहिए और समय-समय पर अपने हाथ धोने के लिए इसका इस्तेमाल करना चाहिए।
● हाथ धोने की पद्धति
केवल पानी से हाथ न धोएं।  इसके लिए पानी के साथ-साथ साबुन का इस्तेमाल करें। शुरू में हाथों को पानी से गीला करें।  फिर हथेलियों पर  साबुन लगा कर उसके झाग बनाएं । लगभग २० से ३० सेकंड तक साबुन के झाग को उंगलियों, नाखूनों, हथेलियों, हथेलियों के पिछले हिस्से और कलाई पर अच्छे से रगड़ें।  फिर साबुन के झागों को स्वच्छ  पानी से धो लें।  फिर हाथों को सुखाएं या साफ कपड़े से पोंछ लें।
● हाथ किससे धोने चाहिए?
हाथों को साबुन से (यदि साबुन उपलब्ध नहीं है तो राख से) धोना चाहिए । हाथ धोने के लिए तरल साबुन का उपयोग करें तथा यात्रा के दौरान हाथ धोने के लिए पेपर सोप का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।
● इससे बचें
मिट्टी से हाथ कभी न धोएं।  मिट्टी में रोगाणुओं के शामिल होने की संभावना है। इससे बीमारी फैलने की संभावना है।
● इसका पालन करें
· हाथ धोने के साथ-साथ नाखूनों को नियमित रूप से काटना भी उतना ही महत्वपूर्ण है  क्योंकि नाखूनों में बहुत से कीटाणु और गंदगी चिपकी रहती है। भोजन करते समय यह गंदगी और रोगाणु पेट में जाते हैं और विभिन्न रोगों का कारण बनते हैं।
· शौचालय से आने के बाद हाथ धोने से भी साबुन दूषित होने की संभावना  है।  इसलिए शौक़ से आने  के बाद अपने हाथों को धोने के लिए अलग साबुन का उपयोग करें।  लिक्विड सोप का इस्तेमाल करें तो बेहतर।
हाथ मिलाते समय सावधान रहें!
परिचित व्यक्ति  से मिलने पर परस्पर  हाथ मिलाने की पद्धति सभी जगह देखी जाती है।   वास्तव में यह पश्चिमी पद्धति है।  एक सर्वेक्षण के अनुसार, विभिन्न रोगाणुओं का प्रसार हाथ मिलाने के दौरान  एक हाथ से दूसरे हाथ में हो सकता है। बहुत से लोगों को हाथ धोने की आदत नहीं होती है।  ऐसे व्यक्तियों के हाथों में रोगाणु हो सकते हैं। ऐसे व्यक्तियों के साथ हाथ मिलाने से आपके हाथ गंदगी और रोगाणुओं से प्रभावित हो सकते हैं। इसलिए हाथ मिलाते समय सावधानी बरतें।
 एक अध्ययन में पाया गया है कि भोजन से पहले और शौच के बाद हाथ साफ करने से अतिसार से संबंधित बीमारियां 50 प्रतिशत कम हो गईं।
● विश्व हस्त प्रक्षालन दिवस
समय-समय पर हाथ धोने के बारे में अनेक लोगों में कमाल की अनास्था दिखाई देती है।  इसलिए इस बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए, यूनिसेफ की ओर से हर साल 15 अक्टूबर के दिन 'विश्व हस्त प्रक्षालन दिवस ' मनाया जाता है।  राज्य में इसके निमित्त , स्कूलों और महाविद्यालयों  में दोपहर के भोजन से पहले हर एक के द्वारा साबुन से हाथ धोने का अभियान चलाया जाता है। इसके अतिरिक्त  संबंधित जिलों में स्वच्छता अभियान कक्षाओं के माध्यम  से साबुन से हाथ धोने की आदत  को बढ़ावा देने के लिए विशेष जागरूकता अभियान भी चलाए जाते हैं। इसके अंतर्गत   मेला, कार्यशाला, जन जागृति सभा, जन जागृति स्टॉल, लोक गायकों, सूचना पत्रक वितरण आदि के माध्यम से समय-समय पर साबुन से हाथ धोने का संदेश दूर-दूर तक पहुंचाया जाता है। स्वच्छता की शपथ लेकर आदर्श जीवन का संकल्प लिया जाता है। अभी से इस संकल्प  का पालन आप भी करें!
0000


कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा

Blogger द्वारा समर्थित.