विदर्भ, मराठवाड्यात दुधाचे उत्पादन प्रतिदिन २ लाखावरुन ५ लाख लिटर करावे - मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत




राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्डाच्या बैठकीत सूचना

मुंबई, दि. १६ : विदर्भ व मराठवाड्यातील शेतकऱ्यांची कमकुवत आर्थिक स्थिती याचबरोबर तोट्यातील शेती, वाढणारे कर्ज व त्यामुळे वाढते आत्महत्याचे प्रमाण यातून शेतकऱ्यांची मुक्तता करण्यासाठी दुग्ध व्यवसाय हमखास व शाश्वत उत्पन्नाचे साधन असून दुधाचे उत्पादन प्रतीदिन २ लाखावरुन ५ लाख लिटरपर्यंत वाढविण्याच्या सूचना मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे यांनी दिल्या.

सह्याद्री अतिथीगृह येथे राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्डाचे अध्यक्ष दिलीप रथ यांच्यासमवेत आयोजित बैठकीत श्री.ठाकरे बोलत होते.

मराठवाडा व विदर्भातील भौगोलिक स्थिती, सततचे दुष्काळ, सिंचनाचा अभाव यामुळे शेतकऱ्यांच्या झालेल्या दयनीय परिस्थितीतून बाहेर काढण्यासाठी शेतीपूरक व्यवसाय देण्याकरिता जोडधंद्यांमधून शाश्वत स्त्रोत उपलब्ध करण्यासाठी शासन शेतकऱ्यांमध्ये दुग्ध व्यवसायाकरिता क्षमता बांधणी करुन भविष्यात शेतकऱ्यांची उत्पादन क्षमता वाढविण्यावर भर देणार असल्याचे श्री.ठाकरे यांनी सांगितले.

मुख्यमंत्री श्री.ठाकरे म्हणाले, मराठवाडा व विदर्भ दुग्ध विकास प्रकल्प मराठवाड्यातील ११ जिल्ह्यात २९३६ गावांमध्ये राबविण्यात येत होता. यामध्ये आता १३२६ गावांचा समावेश करण्यात आला आहे. दुधाची उत्पादकता वाढविण्यासाठी राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्ड व सहयोगी संस्थांद्वारे कृत्रिम रेतनाची सेवा शेतकऱ्यांच्या दारापर्यंत पोहोचविणे, संतुलित पशु खाद्य सल्ला व मार्गदर्शन सेवा, गुणवत्तापूर्ण पशुखाद्य व पशुखाद्य पुरके पुरवठा, वैरण विकास कार्यक्रम, जनावरांमधील वांझपणाचे निदान, ॲनिमल इंडक्शन करणार. तसेच गावपातळीवर पशुवैद्यकीय सेवा पोहोचविल्यास उत्पादकता वाढण्यास मदत होईल. मराठवाडा, विदर्भात अनेकदा दुष्काळस्थिती असल्याने पशुखाद्याचा तुटवडा भासतो. जनावरांच्या छावण्यांवर होणारा खर्च, चारा उत्पादन वाढविण्यासाठी विविध उपक्रम राबविणार असल्याचेही श्री.ठाकरे यांनी सांगितले.

राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्डाचे अध्यक्ष दिलीप रथ यांनी दुधाचे उत्पादन वाढविण्यासाठी भारतीय वंशांच्या दुधाळ गाई यामध्ये गिर, साहिवाल, राठी, लालशिंधी या गाई आणण्यात येतील. यामुळे शेतकऱ्यांना चांगले उत्पन्न मिळून चांगला भावही मिळेल. राज्य सरकारच्या सहकार्याने दुग्ध विकास बोर्ड, मदर डेअरीच्या माध्यमातून शेतकऱ्यांचे उत्पादन वाढविण्यासाठी प्रयत्न करुन मराठवाडा व विदर्भातील शेतकऱ्यांची आर्थिक उन्नती करण्याचा प्रयत्न करणार आहे. शेतकऱ्यांशी समन्वय साधून त्यांच्यात जनजागृती करण्यात येईल, असे सांगितले.

यावेळी पशुसंवर्धन विभागाचे प्रधान सचिव अनुप कुमार, मुख्यमंत्र्यांचे प्रधान सचिव भूषण गगराणी, विकास खारगे, दुग्ध विकास विभागाचे आयुक्त नरेंद्र पोयम, पशुसंवर्धन विभागाचे सहसचिव माणिक गुट्टे, प्रकल्प संचालक रविंद्र ठाकरे यांची उपस्थिती होती.

0000

विदर्भमराठवाड़ा में दूध का दैनिक उत्पादन
लाख से 5 लाख लीटर करें
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

मुंबईदिनांक 16: विदर्भ और मराठवाड़ा के किसानों की कमजोर आर्थिक स्थितिसाथ ही खेती का नुकसानबढ़ते हुए कर्ज और इसी के परिणामस्वरूप बढ़ती हुईं आत्महत्याओं का दर से किसानों को मुक्त करने के लिए दूध व्यवसाय एक स्थायी व्यवसाय है और प्रति दिन 2 लाख लीटर दूध का उत्पादन बढ़ाकर और इसे 5 लाख लीटर प्रतिदिन तक करेंमुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज यह निर्देश दिया है।

सह्याद्री अतिथि गृह में राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के अध्यक्ष दिलीप रथ के साथ आयोजित बैठक में श्री ठाकरे बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि मराठवाड़ा और विदर्भ में भौगोलिक स्थितिलगातार सूखा और सिंचाई की समस्याओं के कारण किसानों को दयनीय परिस्थितियों से बाहर निकालने के लिए किसानों को खेती से जुड़ा हुआ व्यवसाय उपलब्ध कराने के लिए संयुक्त व्यवसाय से स्थायी व्यवसाय उपलब्ध कराने के लिए सरकार किसानों में दूध का व्यवसाय करने के लिए की क्षमता निर्माण करने के लिए भविष्य में सरकार किसानों की उत्पादन क्षमता बढ़ाने पर बल देंगी।

मुख्यमंत्री श्री ठाकरे ने कहा कि मराठवाड़ा और विदर्भ डेयरी विकास परियोजना मराठवाड़ा के 11 जिलों में 2936 गांवों में शुरू किया गया है। इसमें 1326 गांवों को शामिल किया गया हैं। दूध की उत्पादन बढ़ाने के लिएराष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड और सहयोगी संस्थाओं द्वारा कृत्रिम गर्भाधान (कृत्रिम रेतना) सेवाओं को घरों तक पहुंचानासंतुलित पशु चारा सलाह और मार्गदर्शन सेवागुणवत्तापूर्ण पशु चारा और प्रयाप्त मात्रा में पशु चारा की आपूर्ति,वैरण (चारा) विकास कार्यक्रमपशुओं में बांझपन का निदानॲनिमल इंडक्शन किया जाएगा। साथ हीग्रामीण स्तर पर पशु चिकित्सा सेवाएं पहुंचाने से उत्पादन बढ़ाने में मदद मिलेगी। मराठवाड़ा और विदर्भ में सूखे की स्थिति के कारण पशु चारा की कमी महसूस की जाती है। श्री ठाकरे ने कहा कि पशुओं की छावनी बनाने में होने वाला खर्च और चारा का उत्पादन को बढ़ाने के लिए विभिन्न उपक्रमों को शुरू  किया जाएगा।

राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के अध्यक्ष दिलीप रथ ने कहा कि दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए भारतीय नस्ल की दुधारू गायों में गिरसाहीवालराठीलालसिंधी गायों को लाया जाएगा। इससे किसानों को अच्छी आय के साथ-साथ अच्छे दाम भी मिलेंगे। राज्य सरकार की मदद से डेयरी विकास बोर्डमदर डेयरी के माध्यम से किसानों की उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रयास किया जाएगा ताकि मराठवाड़ा और विदर्भ में किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाकर उनका विकास किया जा सकें। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ समन्वय बनाकर उनके बीच जागरूकता बढ़ाई जाएगी।

इस बैठक में पशुसंवर्धन विभाग के प्रधान सचिव अनूप कुमारमुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भूषण गगरानीविकास खारगेडेयरी विकास आयुक्त नरेंद्र पोयमपशुपालन विभाग के संयुक्त सचिव माणिक गुट्टे और परियोजना निदेशक रविंद्र ठाकरे उपस्थित थे।
000

In Vidarbha-Marathwada, increase milk production
Up to 5 lakh litre/day
- CM Uddhav Thackeray

Mumbai, Jan 16: To emancipate the farmers in Vidarbha and Marathwada regions from weak financial condition, loss in farming, increasing loan and resultant suicides, milk production can be the best alternative. The daily milk production of these regions should be increased to 5 lakh litre from existing two lakh litre per day, suggested Chief Minister Uddhav Thackeray here today.
He was speaking at a meeting with President of National Dairy Development Board (NDBB) Dilip Rath at Sahyadri Guest House today.

CM Thackeray said that, The government would concentrate on raising the productivity of farmers in future by making available to them supplementary activities like milk production. This will give them a better opportunity to overcome the consistent droughts, and shortage of irrigation for the farming, he added.

Thackeray further said that, Dairy development project was implemented in 2936 villages in 11 districts of Marathwada. Additional 1326 villages have been added to this. To increase milk production measures like providing service of artificial insemination by NDDB and associate organizations to farmers, counseling and guidance on balanced animal fodder, supplying quality fodder and supplementary fooder, fodder development program, diagnosis of animal infertility, animal induction etc. Providing medical services to animals at village level will also help in increasing productivity. Various other measures will be launched to manage expenditure on animal relief camps and increasing fodder, Thackeray said.

NDDB President Dilip Rath said that Indian breeds of cows such as Gir, Sahiwal, Rathi, Lalshindhi will be brought to increase the milk production. This will fetch a better remuneration to the farmers. Dairy Development Board will take steps to make Vidarbha-Marathwada farmers financially competent with the help of State Government and Mother Dairy.

In this meeting Principal Secretary of Animal Husbandry Anup Kumar, CM’s Principal Secretary Bhushan Gagrani,  Vikas Kharge, Commissioner Dairy Development Department Narendra Poyam, Joitn secretary of Anumal Husbandry Manik Gutte and Project Diorector Ravindra Thakre were present.

0000




कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा

Blogger द्वारा समर्थित.