राष्ट्रीय वित्तीय संरचनेच्या स्थिरतेसाठी ‘सायबर सुरक्षा’ महत्वाचा मुद्दा - 'सेबी' चे सदस्य एस. के. मोहंती

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत


बीएसईमध्ये ‘“सायबर सिक्युरिटी  कॉन्फरन्स २०२०”

मुंबईदि. १० : राष्ट्रीय वित्तीय संरचनेच्या स्थिरतेसाठी 'सायबर सुरक्षा' हा आता महत्त्वाचा मुद्दा आहे. त्यामुळेच भांडवली बाजार आणि सामान्यांच्या गुंतवणूकीचे संरक्षण व्हावे यासाठी सर्वंकष प्रयत्न करावे लागतीलअसे प्रतिपादन भारतीय प्रतिभूती आणि विनिमय मंडळ  'सेबी'चे सदस्य एस. के. मोहंती यांनी आज येथे केले.

सेबीबाँम्बे स्टाँक एक्स्चेंज 'बीएसई आणि महाराष्ट्र सायबर यांच्यावतीने सायबर सिक्युरिटी कॉन्फरन्स - २०२०परिषदेचे आयोजन स्टॉक एक्सचेंज येथे करण्यात आले. या परिषदेच्या उद्घाटनप्रसंगी श्री. मोहंती प्रमुख पाहूणे म्हणून बोलत होते.

बीएसईच्या सभागृहात आयोजित या परिषदेच्या उद्घाटनप्रसंगी महाराष्ट्र सायबरचे प्रमुख तथा विशेष पोलीस महानिरीक्षक ब्रिजेश सिंहडिजिटल सिक्युरिटी कौन्सिल ऑफ इंडियाच्या - डिएससीआयच्या मुख्य कार्यकारी अधिकारी रमा वेदश्रीएनसीआयआयपीसीचे महासंचालक अजित वाजपेयी, 'सर्ट-इन'चे महासंचालक संजय बहल यांची बीजभाषणे झाली.



प्रमुख पाहुणे श्री. मोहंती म्हणाले, "भारतीय वित्तीय क्षेत्रातील नियामक संस्थांसह आणि विविध घटकांच्या हितरक्षणासाठी कार्यरत असे महाराष्ट्र सायबर यांनी संयुक्तपणे आय़ोजित केलेली ही परिषद महत्त्वपूर्ण अशीच आहे. वित्तीय संरचना आणि गुंतवणूक क्षेत्राच्या दृष्टीने सुरक्षेचे अनेकविध प्रय़त्न केले जात आहेत. सायबर हल्ल्यांपासून आणि विघातक शक्तींच्या हस्तक्षेपापासून भांडवली बाजार आणि गुंतवणूकदारांचे संरक्षण व्हावे यासाठी प्रयत्न केले जात आहेत. यात विविध घटकांनी एकास्तरावर एकत्र येऊन माहितीचे आदान-प्रदान करणे आवश्यक आहे. सायबर हल्ल्यात गुंतलेल्या शक्तींपासून कुणीही सुरक्षित नाही. त्यामुळे ज्यांना अशा हल्ल्यांचा अनुभव आहेअभ्यास आहे अशांनी ही माहिती स्वतःपुरती मर्यादीत ठेवता कामा नये. सायबर हल्ल्यांना परतावून लावणारी परिपूर्ण अशी प्रणाली अस्तित्वात नाही. तुम्ही तुमची प्रणाली जितकी अद्ययावत करत आहातत्याहून अधिक प्रभावी प्रणाली विघातक शक्ती विकसित करण्यात पुढे राहू शकतात. त्यामुळे सर्व शक्यता गृहीत धरूनपरस्पर सहकार्यातून भांडवली बाजार आणि सामान्यातील सामान्य गुंतवणूकदारांच्या संरक्षणासाठी सदैव सतर्क रहाणे आणि प्रय़त्न करणे आवश्यक आहे."

यावेळी श्री. मोहंती यांनी सेबीतर्फे सायबर सिक्युरिटी इंडेक्स अंतर्गत भांडवली बाजाराशी निगडीत डिपॉझीटरीब्रोकर्सक्लिअरिंग हाऊसेस यांना सायबर सुरक्षेसाठीचे उपाय योजनांबाबत प्रोत्साहन दिले जात असल्याची माहिती दिली.



महाराष्ट्रात 'सायबर साक्षरते'साठी विशेष प्रयत्न
महाराष्ट्र सायबरचे प्रमुख विशेष पोलीस महानिरीक्षक श्री. ब्रिजेश सिंह म्हणाले, "सायबर सुरक्षा हा आता काळाची गरज असा विषय आहे. त्याच्याकडे दुर्लक्ष करून चालणार नाही. कित्येक शतकांपुर्वी आपण खैबर खिंडीतून परकीयांना प्रवेश देण्याची चूक केली होती. पण आता सायबर सुरक्षा हा सीमाकिंत विषय राहिलेला नाही. त्यामुळे राष्ट्रीय सुरक्षेच्या दृष्टीने आणखी सतर्क आणि सज्ज व्हावे लागेल. विघातक शक्ती आपल्याकडे अस्तित्त्वात असलेल्या अद्ययावत सुरक्षा प्रणालींच्या पुढे जाऊन तंत्रज्ञानाचा वापर करू लागले आहेत. त्यामुळे व्यापक दृष्टीने आणि विविध घटकांनी एकत्र येऊन सर्वंकष असे प्रयत्न करावे लागतील. त्यासाठी 'सायबर सिक्युरिटी क्रायसीस मॅनेजमेंट'च्या उपाययोजना कराव्या लागतील. विघातक शक्तींचे हल्ले परतवण्यासाठी सुत्रबद्ध प्रयत्न करावे लागतील. यासाठी विविध घटकांपर्यत सायबर साक्षरता विषय पोहचविण्याची गरज आहे."

'महाराष्ट्र सायबर'ने नव्या वर्षात जानेवारीतच सुमारे दीडशे 'सायबर सेफ वुमेनकार्यशाळा घेऊनत्याद्वारे सुमारे चाळीस हजार महिला आणि मुलींपर्यंत 'सायबर सुरक्षाहा विषय पोहचविल्याची माहिती श्री. सिंह यांनी दिली.

सायबर सुरक्षा क्षेत्रात गुंतवणूक
डिएससीआयच्या श्रीमती वेदश्री म्हणाल्या, "गुंतवणूक आणि वित्तीय क्षेत्रातील नियामक तसेच सुरक्षा क्षेत्रात कार्यरत महाराष्ट्र सायबर यांनी अशी परिषद आयोजित करणे हा अभिनव प्रयत्न आहे. भारत हा डिजिटल ईकनॉमी आणि एक अर्थसत्ता म्हणून विकसित होणारा देश आहे. यामुळे आपल्या वित्तीय सेवा क्षेत्रभांडवली बाजार आणि फिनटेक उद्योग या क्षेत्रात वेगाने बदल घडत आहेत. युपीआयमुळे डिजिटल पेमेंट प्रणालीच्या वापर वाढतो आहे. अशा बदलाच्या काळातच जोखीम वाढते. त्यामुळे आपल्या आर्थिक पायाला धक्का पोहचविण्यासाठी प्रयत्न होऊ शकतात. त्यामुळेच नियामक अशा यंत्रणांनी एकत्र येऊन सायबर सुरक्षेबाबत जागृती करणे आवश्यक ठरते. फायनान्शील डाटा त्यातही वैयक्तिक वित्तीय माहिती ही आता डाटा प्रोटेक्शन विधेयकाद्वारे संवेदनशील ठरविली जाते आहे. त्यामुळे सायबर सुरक्षा क्षेत्रात गुंतवणूक करणेकौशल्य वृद्धी करणे आवश्यक आहे."

एनसीआयआयपीसीचे महासंचालक श्री. वाजपेयी म्हणाले, "सायबर हल्ल्यांच्या दृष्टीने संवेदनशील अशा सहापैकी सर्वात संवेदनशील असे वित्तीय क्षेत्र आहे. कित्येकदा अनेक सायबर हल्ले आणि विघातक शक्तींचे प्रयत्न उधळून लावल्याचे दाखले दिले जातात. पण यातीलच एखादा हल्ला मोठा परिणामकारक ठरू शकतो. धोकादायक सिद्ध होऊ शकतोहे लक्षात घ्यावे लागेल. त्यामुळेच भांडवली बाजार आणि वित्तीय संरचनेत विकसित होणाऱ्या प्रणाली या सायबर सुरक्षा मानकांची अंमलबजावणी करणाऱ्या असाव्यात असे प्रय़त्न आहेत. वित्तीय संरचनेतील कोणते घटक हे अत्यंत महत्त्वाचे आहेत. तसेच सुरक्षेच्या दृष्टीने प्रणाली विकसित कऱणे ही सामूहिक जबाबदारी समजावी लागेल."

सर्ट-ईनचे महासंचालक श्री. बहल म्हणाले, "भांडवली बाजारातील गुंतवणूकदारविविध कंपन्या आणि बाजाराशी निगडीत विविध घटक यांचा विश्वास दृढ रहावा यासाठी सायबर सुरक्षा हा महत्त्वपूर्ण विषय आहे. भांडवली बाजाराच्या सुरक्षेसाठी जाणीवपूर्वक प्रयत्न करावे लागतील. त्यासाठी सुरक्षेतील कच्चे दुवे शोधण्याची प्रक्रिया आणि प्रयत्न सातत्याने करावे लागतील. यात संरचनेतील एखाद-दुसऱ्या घटकाची जबाबदारी नसूनअनेकांनी एका समानस्तरावर येऊन धोरण आखावे लागेल. सार्वजनिक आणि खासगी क्षेत्रातील परस्पर संबंध आणखी दृढ करावे लागतील. समन्वयसंवाद वाढवावा लागेल. वित्तीय संरचनेतील बँकांपासून विविध घटकांचा सक्रिय सहभागाला प्रोत्साहन द्यावे लागेल.याच प्रयत्नाचा भाग म्हणून जागतिकस्तरावरील एकशेऐंशी देशाच्या सहभागातून राबविण्यात आलेल्या उपक्रमात सर्ट-इननेही सहभाग नोंदविल्याचे श्री. बहल यांनी सांगितले.

सुरवातीला बीएसईचे मुख्य कार्यकारी अधिकारी आशिषकुमार चौहान यांनी स्वागत केले. शिवकुमार पांडे यांनी आभार मानले. उद्घाटनानंतर परिषदेत दिवसभरात विविध सत्रांमध्ये 'सायबर सुरक्षाआणि वित्तीय क्षेत्रातील विविध बाबींशी निगडीत तज्ज्ञ मार्गदर्शकांनी मांडणी केली.

या परिषदेस भांडवली बाजार आणि गुंतवणूक क्षेत्राशी निगडीत तसेच सायबर सुरक्षा क्षेत्रातील तज्ज्ञमहाराष्ट्र सायबरचे वरीष्ठ पोलीस अधिकारी- कर्मचारी उपस्थित होते.

0000


बीएसई में
 'साइबर सुरक्षा सम्मेलन – 2020

राष्ट्रीय वित्तीय संरचना की स्थिरता के लिए
'साइबर सुरक्षा’ एक महत्वपूर्ण मुद्दा – मोहंती

मुंबई,दि. 10राष्ट्रीय वित्तीय संरचना की स्थिरता के लिए 'साइबर सुरक्षाअब एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। इसलिए पूंजी बाजार और सामान्य निवेश को सुरक्षित रखने के लिए सभी प्रयास करने पड़ते हैं, “भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) के सदस्य एस.के मोहंती ने आज यहां ऐसा प्रतिपादन किया।

सेबीबाम्बे स्टॉक एक्सचेंज - बीएसई और महाराष्ट्र साइबर की ओर से स्टॉक एक्सचेंज में 'साइबर सुरक्षा सम्मेलन - 2020' आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन के उद्घाटन परश्री. मोहंती प्रमुख अतिथि के रूप में बोल रहे थे।

बीएसई में आयोजित इस सम्मेलन के उद्घाटन परमहाराष्ट्र साइबर चीफ और विशेष पुलिस महानिरीक्षक ब्रिजेश सिंह,  डिजीटल सिक्युरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया - डीएससियाई के मुख्य कार्यकारी अधिकारीराम वेदश्रीएनसीआईआईपीसी (NCIIPC) के महानिदेशक अजीत वाजपेयी,  ‘सर्ट-इन’ के महानिदेशक संजय बहल ने अपनी बात रखी।

प्रमुख अतिथि श्री. मोहंती ने कहा, "यह महाराष्ट्र साइबर द्वारा आयोजित एक महत्वपूर्ण सम्मेलन हैजो भारतीय वित्तीय क्षेत्र के नियामक निकायों के साथ और विभिन्न घटकों के लाभ के लिए काम करता है। वित्तीय संरचना और निवेश क्षेत्र के संदर्भ  मेंकई सुरक्षा उपाय किए जा रहे हैं। पूंजी बाजार और निवेशकों को साइबर हमलों और घातक बलों के हस्तक्षेप से बचाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसमें विभिन्न घटकों के एक साथ आने और सूचनाओं के आदान-प्रदान की आवश्यकता है। साइबर हमलों में शामिल बलों से कोई भी सुरक्षित नहीं है।  इसलिएजिन्हें इस तरह के हमलों और अध्ययन का अनुभव हैउन्हें इस जानकारी को खुद तक सीमित नहीं करना चाहिए। कोई सही प्रणाली नहीं है जो साइबर हमले को पूरी तरह से रोक सके।

जितना अधिक आप अपने सिस्टम को अपडेट करते हैंउतना ही अधिक सिस्टम अपने घातक बल को विकसित करना जारी रख सकता है।  इसलिए सभी संभावनाओं को देखते हुएआपसी सहयोग में पूंजी बाजार और सामान्य निवेशकों की सुरक्षा के लिए हमेशा सतर्क रहना और प्रयास करना अनिवार्य है।'

इस दौरान श्री. मोहंती ने बताया कि सेबी की तरफ से साइबर सुरक्षा सूचकांक के तहत पूंजी बाजार से जुड़े डिपॉजिटरीब्रोकर्सक्लियरिंग हाउसों को साइबर सुरक्षा समाधान योजनाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है।

महाराष्ट्र में 'साइबर साक्षरताके लिए विशेष प्रयास महाराष्ट्र साइबर के चिफ और विशेष पुलिस महानिरीक्षक श्री. ब्रिजेश सिंह ने कहा, “साइबर सुरक्षा अब आज की जरूरत का विषय है। इसे दुर्लक्ष नहीं किया जा सकता। कई सदियों पहलेहमने खैबर घाटी के माध्यम से विदेशियों को प्रवेश देने की गलती की थी। लेकिन साइबर सुरक्षा अब एक फ्रंटियर इश्यू नहीं है। इसलिएहमें राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए अधिक सतर्क और तैयार रहना होगा। घातक सुरक्षा बल मौजूदा तकनीकी प्रणालियों से आगे बढ़ तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। इसलिएव्यापक रूप से और विभिन्न घटकों को एकत्र आने के लिए एक ठोस प्रयास करना आवश्यक है। ‘सायबर सिक्युरिटी क्रायसीस मॅनेजमेंट’ के उपायों को लागू करने की आवश्यकता है। हमलावर ताकतों के हमलों को पीछे हटाने के लिए एक ठोस प्रयास होगा। इसके लिए कई घटकों तक साइबर साक्षरता मुद्दों को संबोधित करने की आवश्यकता है। '

श्री सिंह ने बताया कि 'महाराष्ट्र साइबरने नए साल जनवरी में लगभग 150 'साइबर सेफ वुमनकार्यशालाओं का आयोजन कर लगभग चालीस हजार महिलाओं और लड़कियों को 'साइबर सुरक्षाके विषय में जानकारी दी है।

साइबर सुरक्षा में निवेश करना

डिएससीआय की श्रीमती वेदश्री ने कहा, “निवेश और वित्तीय क्षेत्रों में एक नियामक और सुरक्षा क्षेत्र में कार्यरत महाराष्ट्र साइबर द्वारा सम्मेलन को आयोजित करने का एक अभिनव प्रयास है। भारत डिजिटल अर्थव्यवस्था और एक अर्थसत्ता के रूप में विकसित होने वाला देश है। इससे हमारे वित्तीय सेवा क्षेत्रपूंजी बाजार और फिनटेक उद्योगों में तेजी से बदलाव हुए हैं। UPI डिजिटल भुगतान प्रणाली का उपयोग बढ़ा रहा है। इस तरह के बदलाव के दौरान जोखिम बढ़ जाता है। इससे आपके वित्तीय आधार को धक्का पहुंचाने के प्रयास हो सकते हैं। इसीलिए नियामक तंत्र को एक साथ आने और साइबर सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है।  वित्तीय डेटा में व्यक्तिगत वित्तीय जानकारी अब डेटा सुरक्षा विधेयक द्वारा संवेदनशील माना जा रहा है। इसलिए साइबर सुरक्षा क्षेत्र में निवेश करनास्किल डेवलपमेंट करना जरूरी है। '

एनसीआईआईपीसी (NCIIPC) के महानिदेशक श्री. वाजपेयी ने कहा, “साइबर हमलों के लिए सबसे संवेदनशील छह क्षेत्र सबसे संवेदनशील वित्तीय क्षेत्र हैं। अक्सर कई बार साइबर हमलों और हमला करने वाली ताकतों को सबूत के रूप में उद्धृत किया जाता है। लेकिन इनमें से कोई हमला बहुत प्रभावी हो सकता है। यह ध्यान रखना होगा कि खतरनाक साबित हो सकता है। यही कारण है कि पूंजी बाजार और वित्तीय ढांचे में विकसित सिस्टम का उद्देश्य साइबर सुरक्षा मानकों को लागू करना है। वित्तीय संरचना में कौन से कारक सबसे महत्वपूर्ण हैं। सुरक्षा के लिहाज से सिस्टम विकसित करना भी सामूहिक जिम्मेदारी है। '

सर्ट-ईन के महानिदेशकश्री. बहल ने कहा, "पूंजी बाजारों मे निवेशकविभिन्न कंपनियों और बाजार से संबंधित विभिन्न कारकों में दृढ़ विश्वास होना चाहिए इसके लिए साइबर सुरक्षा एक महत्वपूर्ण मुद्दा है।"  पूंजी बाजारों की सुरक्षा के लिए सचेत प्रयास किए जाने चाहिए। इसके लिएसुरक्षा में कच्चे लिंक को खोजने के लिए प्रक्रिया और प्रयासों को निरंतर करना होगा। हालांकि यह संरचना में किसी अन्य घटक की जिम्मेदारी नहीं हैकई को एक ही रणनीति के साथ आना होगा। सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच बातचीत को और मजबूत करने की आवश्यकता होगी। समन्वयसंचार को बढ़ाना होगा। वित्तीय संरचना में बैंकों से विभिन्न कारकों की सक्रिय भागीदारी को प्रोत्साहित करना होगा। इस प्रयास के तहतदुनिया भर के एक सौ अस्सी देशों द्वारा आयोजित सर्ट-इन पहल में भाग लिया।

बीएसई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आशीष कुमार चौहान ने शुरू में सबका स्वागत किया। शिव कुमार पांडेय ने सबका आभार व्यक्त किया। उद्घाटन सम्मेलन के दौरानदिन भर के विभिन्न सत्रों में 'साइबर सुरक्षाऔर वित्तीय क्षेत्र के विशेषज्ञ मार्गदर्शकों ने विभिन्न मुद्दों पर बात किया।

इस सम्मेलन में महाराष्ट्र साइबर के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और कर्मचारीपूंजी बाजार और निवेश क्षेत्र से संबंधित के साथ-साथ साइबर सुरक्षा के विशेषज्ञ भी उपस्थित थे।  

0000

‘Cyber Security Conference- 2020’ at BSE

‘Cyber Security’ an important topic
for the stability of the national economic structure -Mohanti

Mumbai, date.10th: ‘Cyber Security’ is an important topic for the stability of the national economic structure. Therefore, we will need to take efforts to protect the capital market and common people’s investment, expressed S.K. Mohanti, Securities and Exchange Board of India (SEBI) member.

‘Cyber Security Conference- 2020’ is organized at the Bombay Stock Exchange in association with SEBI, BSE, and Maharashtra Cyber. Shri. Mohanti was the chief guest at the inauguration ceremony and he spoke at the event.

Maharashtra Cyber Chief & Inspector General of Police Brijesh Singh, Chief Executive Officer of Digital Security Council of India (DSCI) Rama Vedshri, Director General of NCIIPC Ajit Vajpayee, Director-General of ‘Cert-In’ Sanjay Behl gave the key speeches at this conference held at BSE convention hall.

Chief Guest Shri. Mohanti said, this conference, which is organized collaboratively by Indian finance’s regulatory organizations, and Maharashtra Cyber is very much important.  Various efforts are taken to protect the financial structure and investment sector.  Efforts are taken to protect capital market and investors from the danger of cyber-attacks and destructive forces. Various stakeholders should come together and share information regarding this danger. No one is immune to cyberattacks. Therefore, people who have faced such attacks or have studied about it should not keep it to themselves. No system can defend cyberattacks completely. Destructive forces are always one step ahead in creating cyber-threats though one keeps updating protective measures. Therefore, it is needed to assume all possibilities of cyber-threats and to be on alert mode together to protect the capital market and each investor’s digital privacy.

Shri. Mohanti informed that SEBI under the cybersecurity index is encouraging capital market-related depositary, brokers, clearing houses to implement more cyber safety measures.

Special efforts for‘cyber literacy’ 
in Maharashtra

Maharashtra Cyber Chief & Inspector General of Police Brijesh Singh said, “Cybersecurity is a hot topic of this age. It can’t be ignored. Centuries ago, we committed the mistake to let foreigners enter our land via Khaibar Khind. But cybersecurity is not a subject bound to borders only. Therefore, we will need to be more alert and ready for national security. Destructive forces are using technologies that are more advanced than our upgraded security systems. Keeping this fact in mind, various stakeholders should come together and give their best efforts.  ‘Cybersecurity crisis management’ measures should be implemented for this. Systematic efforts are needed to defend attacks of destructive forces. Various stakeholders are needed made cyber literate.”

Shri. Singh informed that ‘Maharashtra Cyber’, alone in January, has reached to some forty thousand women and girls and has created ‘cybersecurity’ awareness amongst them through one hundred and fifty ‘Cyber Safe Women’ workshops. 

Investment in cybersecurity

Smt. Vedshri, DSCI said, “Maharashtra cyber is active in regulation and security of investment and finance sector. This conference is an innovative initiative. India is a developing country in the digital economy and powerful economy. As a result, finance service sectors, capital market, and Fintech businesses are undergoing rapid changes.  Digital payment has increased due to UPI. The same rapid changing times are more risk-prone. Attacks can be made to weaken our economic base. That is why regulatory units should come together and create cybersecurity-related awareness.  Financial data, especially personal financial information has been declared sensitive information in the Data Protection Bill. Therefore, it is must to invest and be more skillful in cybersecurity.
Shri. Vajpayee Director-General of NCIIPC said, “Finance sector is one of the six sectors that are most vulnerable to cybersecurity.  Many times, examples of sabotaging cyber-attacks and efforts of destructive forces are given. But one should know that any attack can affect very badly and can be dangerous. We are trying that software used in capital marketing and financial structure will follow cybersecurity standards.  One should understand the important factors in financial structures. Creating a pro-safe software system should be considered a shared responsibility.”

Shri. Behl, Director General of Cert-In said, Cybersecurity is an important subject regarding investment in the capital market, trust factor of various stakeholders related to various companies and markets.   Necessary efforts should be taken for the safety of capital market. Continuous process and efforts to search weak spots in security are needed. Some stakeholders do not hold the responsibility but all should come together and draft policy on a common mutual understanding. Ties between public and private sectors should be strengthened more. There should be more coordination and communication. Active participation of banks and various stake-holders in the financial structures should be encouraged.” Shri. Behl also told that Cert-In has participated in the global initiative started jointly by one hundred and eighty countries.

Ashish Kumar Chauhan, CEO of BSE welcomed all. Shivkumar Pande expressed a vote of thanks. After the inauguration ceremony, experts guided on ‘cybersecurity’ and various aspects of finance sector, in the various sessions of the conference. 

Experts related to the capital market and investment sector, cybersecurity experts, and senior police officers- employees of Maharashtra Cyber were present at the conference.
००००



कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा

Blogger द्वारा समर्थित.