पुढच्या पिढीसाठी पर्यावरणाचा ऱ्हास टाळणे गरजेचे - मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत




33 कोटी वृक्षलागवडीच्या राज्यव्यापी कार्यक्रमाला वरोरा येथील आनंदवनातून सुरुवात



चंद्रपूर, दि. 1 : दहा वर्षांपूर्वी पर्यावरणासंदर्भात गांभीर्याने चर्चा सुरू असताना त्याचे चटके अल्पावधीतच इतक्या गंभीरतेने भोगावे लागतील याची कल्पना नव्हती. मात्र आता पुढच्या पिढीसाठी पर्यावरणाचा ऱ्हास टाळणे या पिढीचे कर्तव्य असून वृक्षलागवडीच्या या मोहिमेत प्रत्येकाने आपले दायित्व द्यावे, असे आवाहन राज्याचे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस यांनी आज येथे वरोरा केले. स्वर्गीय बाबा आमटे यांच्या कर्मभूमीतून, आनंदवनातून 33 कोटी वृक्ष लागवडीच्या राज्यस्तरीय मोहिमेचा वृक्षारोपण करून त्यांच्या हस्ते शुभारंभ झाला.


आनंदवन येथे आगमन झाल्यानंतर त्यांनी वनविभागाच्या अटल आनंद घन-वन योजनेचा शुभारंभ वृक्षारोपणाने केला. शहरी भागात घनदाट जंगल निर्माण करण्यासाठी जपानच्या धर्तीवर मियावाकी वृक्षलागवड पद्धतीचीदेखील आजपासून वन विभागाकडून सुरुवात करण्यात आली. यावेळी त्यांनी आनंदवनातील स्वर्गीय बाबा आमटे यांच्या स्मृती स्थळाला भेट देऊन त्यांना आदरांजली व्यक्त केली. आनंदवनातील प्रदर्शनाला देखील त्यांनी भेट दिली. राज्यभर प्रचारासाठी निघालेल्या बाईक रॅलीला हिरवी झेंडी दाखवली. त्यानंतर वन विभागातर्फे आयोजित 33 कोटी वृक्षलागवडीच्या कार्यक्रमाचा शुभारंभ केला. यावेळी त्यांच्यासोबत राज्याचे वित्त नियोजन व वनमंत्री तथा चंद्रपूर जिल्ह्याचे पालकमंत्री सुधीर मुनगंटीवार होते.


वृक्षप्रेमींना संबोधित करताना मुख्यमंत्री म्हणाले की, 33 कोटी वृक्ष लागवड ही महत्वाकांक्षी संकल्पना आहे. पत्रकारांनी या ठिकाणी पोहोचल्यानंतरच विचारले की, आनंदवनातूनच ही 33 कोटी वृक्ष लागवडीची सुरुवात का केली जात आहे, तर ज्या नावातच वन आणि आनंद दोन्ही आहे. त्या आनंदवनाने स्वर्गीय बाबा आमटे यांच्या मार्गदर्शनात मन दुभंगलेल्या वंचितांच्या जीवनात आनंद देण्याचे काम केले. त्यामुळे यापेक्षा चांगले स्थळ आणखी कोणते असू शकते? असे आमच्या मनात आले. त्यामुळेच या समाजोपयोगी मोहिमेची सुरुवात आनंदवनातून करण्याचा निर्णय घेतला.    
     


ते म्हणाले, चार वर्षांपूर्वी वनविभागामार्फत 50 कोटी वृक्ष लागवडीचा संकल्प जेव्हा करण्यात आला. तेव्हा ही पुन्हा एक राजकीय घोषणा असावी असे सर्वांना वाटले. मात्र वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार यांनी हा उपक्रम लावून धरला. लवकरच 50 कोटी वृक्ष लागलेली आपल्याला बघायला मिळणार आहे. सध्या वाढत्या तापमानमुळे पर्यावरण समतोल बिघडतोय. हे समजून घेतले पाहिजे. त्याचे भीषण वास्तव समोर येत आहे. अनेक प्रजाती नष्ट होत आहेत. यामुळे निसर्ग संतुलन बिघडले आहे. त्यासाठी पर्यावरण ऱ्हास टाळलाच पाहिजे. पुढच्या पिढीसाठी झाडे लावली पाहिजेत. यातून दुष्काळावर मात करता येईल. आता जागे होण्याची वेळ आहे. धरती वाचविण्यासाठी प्रदूषण पातळी खाली आणली पाहिजे. यासाठी कार्बन उत्सर्जन कमी केले पाहिजे. पुढच्या पिढीच्या संवर्धनासाठी आता झाडे लावूया, असे आवाहन त्यांनी केले.


10 वर्षापूर्वी पर्यावरणाच्या ऱ्हासाची गंभीरता जाणवत नव्हती. मात्र आता त्याचे दृष्य पारिणाम दिसताहेत. निसर्गाचे संतुलन ज्या घटकाने बिघडवले त्या घटकाचा बदला पर्यावरण स्वतःहून घेते. त्यामुळे पर्यावरणाला जपणे अतिशय आवश्यक आहे. अन्यथा पर्यावरण आपला बदला घेईल.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यांनी जगातील सर्व देशांना कार्बनचे प्रमाण 20 टक्के कमी करण्यासाठी भारत प्रयत्न करेल,असे अभिवचन दिले आहे. मोदीजींच्या या घोषणेला जागतिक स्तरावरून प्रतिसाद मिळत आहे. त्यामुळे आता वृक्ष लागवडीच्या या मोहिमेमध्ये सर्वांचा सहभाग अतिशय आवश्यक आहे. त्यासाठी वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार यांनी एक नवीन अॅप तयार करावे. या ॲपच्या माध्यमातून राज्यातला प्रत्येक नागरिक किती कार्बनचा विसर्ग करतो व पर्यावरण संवर्धनासाठी काय काम करतो याची नोंद घेतली जावी, अशी अपेक्षाही त्यांनी भाषणाच्या शेवटी केली.


शहरामध्येही घनदाट जंगल निर्माण करण्यासाठी मियावाकी वृक्षलागवड : मुनगंटीवार

वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार यांनी बोलताना विधिमंडळात अतिशय महत्त्वाचे काम असतानासुद्धा मुख्यमंत्री आनंदवन मधील या वृक्षारोपणाच्या 33 कोटी वृक्षारोपणाच्या या शुभारंभाच्या कार्यक्रमाला आवर्जून उपस्थित राहिल्याबद्दल आभार मानले. आनंदवन ही प्रयोगशाळा आहे. मानव धर्माची शिकवण देणारी ही मोठी संस्था आहे. वसुंधरेचे रक्षण करण्याचे शिक्षण आता आनंदवनातून संपूर्ण महाराष्ट्रात दिले जाईल, असे त्यांनी यावेळी सांगितले.


केंद्रीय मंत्री संजय धोत्रे यांच्या मार्गदर्शनात वृक्ष लागवडीबाबत काढायच्या डाक तिकीटासंदर्भातील पहिले कव्हर आज जारी केले आहे. त्याबद्दल त्यांचे आभार मानले. यावेळी त्यांनी महानगरांमध्ये घनदाट अरण्य निर्माण करण्यासाठी उपयुक्त ठरणाऱ्या मियावाकी पद्धतीचा वनविभाग अवलंब करीत असल्याचे सांगितले.आनंदवनातून याची सुरुवात होत असल्याचेही त्यांनी जाहीर केले. उपस्थित जनसमुदायाला यावेळी त्यांनी वसुंधरेचे कर्ज फेडण्याचे आवाहन केले. वसुंधरा आपल्याला ऑक्सिजन देते. त्या मोबदल्यात आपण काय देतो. त्यासाठी वृक्ष लागवड हा एकमेव पर्याय असून या कर्जातून कोणतेही सरकार कर्जमाफी देणार नाही. त्यासाठी वृक्षलागवडीच्या मोहिमेत सहभागी व्हावेच लागेल असे, आवाहन त्यांनी यावेळी केले.


सुरुवातीला शंका घेणारे आता या मोहिमेत सहभागी झाले असून हरीत महाराष्ट्र सोबत हरित भारत करण्याचा संकल्प आनंदवनच्या भूमीतून जगाला गेला पाहिजे असे आवाहनही त्यांनी यावेळी केले.
         

कार्यक्रमाचे प्रास्ताविक वनविभागाचे प्रधान सचिव विकास खारगे यांनी केले. आनंदवनच्या विश्वस्त तथा मुख्य कार्यकारी अधिकारी शीतल आमटे -करजगी यांनी  आनंदवनाच्या कार्याबद्दलची माहिती दिली. या कार्यक्रमांमध्ये वनविभागाच्या कर्मचाऱ्यांना त्यांच्या उत्कृष्ट कार्यासाठी मुख्यमंत्र्यांच्या हस्ते सन्मानित करण्यात आले.
000000


33 करोड़ वृक्षारोपण का राज्यव्यापी कार्यक्रम
वरोरा के आंनदवन से इसकी हुई शुरुआत
अगली पीढ़ी के लिए पर्यावरण में हो रही गिरावट को रोकने की जरूरत
- मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस
 चंद्रपुर, दिनांक 1: दस साल पहले पर्यावरण के संदर्भ में हो रही गंभीर चर्चा के जारी रहते हुए इसका परिणाम कम समय में ही गंभीर रूप से अनुभव करना पड़ेगा, इसकी कल्पना नहीं थी। लेकिन आने वाली अगली पीढ़ी के लिए पर्यावरण का क्षरण (गिरावट) को रोकने का काम इस पीढ़ी का कर्तव्य है। वृक्षारोपण के इस अभियान में प्रत्येक व्यक्ति अपने कर्तव्य का निर्वाह करें। यह आवाहन सूबे के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज यहां पर किया है। स्वर्गीय बाबा आमटे की कर्मभूमि आनंदवन से 33 करोड़ वृक्षारोपण के राज्य-स्तरीय अभियान का उद्घाटन मुख्यमंत्री के करकमलों द्वारा वृक्ष का रोपण करके किया गया। 
आनंदवन पहुंचने के बाद उन्होंने वन विभाग के अटल आनंद घन-वन योजना का उद्घाटन वृक्षारोपण करके किया। शहरी क्षेत्रों में घने जंगल का निर्माण करने के लिए जापान की तर्ज पर वन विभाग की ओर से मियावाकी ट्री-प्लांटेशन विधि शुरू की गई। इस दौरान मुख्यमंत्री ने आनंदावन में स्वर्गीय बाबा आमटे के स्मृति स्थल का भी दौरा किया और श्री फडणवीस ने उन्हें आदरांजली भी दी। उन्होंने आनंदवन प्रदर्शनी का भी दौरा किया। पूरे राज्य में प्रचार के लिए निकाली गई बाइक रैली को भी हरी झंडा दिखाया। इसके बाद वन विभाग द्वारा आयोजित 33 करोड़ वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उनके साथ राज्य के वित्त व नियोजन और वन मंत्री और चंद्रपुर के पालक मंत्री सुधीर मुनगंटीवार उपस्थित थे।
वृक्ष प्रेमियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 33 करोड़ वृक्षारोपण एक महत्वाकांक्षी संकल्पना (अवधारणा) है। यहां पर पहुंचे पत्रकारों ने मुख्यमंत्री से पूछा कि आनंदवन से ही यह 33 करोड़ वृक्षारोपण की मुहिम को क्यों शुरू किया जा रहा है .... इसके जवाब में श्री फडणवीस ने कहा कि जिसके नाम में ही वन और आनंद दोनों हैं। इस आनंदवन ने स्वर्गीय बाबा आम्टे के मार्गदर्शन में मन से टूट चुके वंचित लोगों के जीवन में आनंद देने का काम किया है। इसलिए इसकी अपेक्षा में इससे कोई अच्छा स्थल कौन-सा हो सकता है? ऐसा हमारे मन में आया था। यही कारण है कि इस समाज उपयोगी अभियान की शुरू आनंदवन से करने का फैसला किया गया है।
उन्होंने कहा कि चार साल पहले जब वन विभाग द्वारा 50 करोड़ वृक्ष लगाने का संकल्प लिया गया था। तब भी सभी को लगा था कि यह लगा था कि यह एक राजनीतिक घोषणा होगी। हालांकि, वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने यह पहल की। जल्द ही हमें 50 करोड़ देखने को मिलेंगे। वर्तमान समय में बढ़ते तापमान के कारण पर्यावरण का संतुलन बिगड़ गया है। इसे समझना चाहिए। इसकी भीषण सच्चाई सामने आ रही है। कई प्रजातियां नष्ट हो रही हैं। इसलिए प्रकृति संतुलन बिगड़ गया है। इसलिए पर्यावरण का क्षरण रोकना चाहिए। अगली पीढ़ी के लिए पेड़ लगाना चाहिए। इससे ही सूखे का सामना किया जा सकता है। अब जागरूक होने का समय आ गया है। धरती को बचाने के लिए प्रदूषण के स्तर को नीचे लाया जाना चाहिए। इसके कार्बन उत्सर्जन को कम करना चाहिए। श्री फडणवीस ने अगली पीढ़ी के संवर्धन के लिए पेड़ लाने की अपील की है।
दस साल पहले पर्यावरण क्षरण की गंभीरता का अंदाजा नहीं लग पाया था। लेकिन अब इसका दृश्य प्रभाव दिखाई दे रहा है। प्रकृति का संतुलन जिन घटकों ने बिगाड़ा है, उस घटक का बदला पर्यावरण स्वयं ही लेता है। इसलिए पर्यावरण को संवर्धन करना बहुत जरूरी है। अन्यथा पर्यावरण अपना बदला लेकर रहेगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वचन दिया है कि भारत दुनिया के सभी देशों में कार्बन के अनुपात को 20 फीसदी तक कम करने की कोशिश करेगा। मोदीजी के इस घोषणा को वैश्विक स्तर  प्रतिसाद मिल रहा है। इसलिए अब वृक्षारोपण के इस अभियान में सभी की भागीदारी बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसके लिए वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने एक नया ऐप तैयार करवाए। श्री फडणवीस ने यह भी आशा व्यक्त की कि राज्य के प्रत्येक नागरिक कितना कार्बन उत्सर्जन कर रहा और पर्यावरण संरक्षण के लिए क्या काम कर रहा है, इसका पंजीकरण इस ऐप के माध्यम से किया जाना चाहिए।
शहर में घने जंगल का निर्माण करने के लिए मियावाकी वृक्षारोपण: मुनगंटीवार
                        इस अवसर पर वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि विधान मंडल में सबसे महत्वपूर्ण काम के बावजूद मुख्यमंत्री आनंदवन में इस वृक्षारोपण के 33 करोड़ वृक्षारोपण के शुभारंभ कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। इसके लिए उनका दिल से धन्यवाद। आनंदवन एक प्रयोगशाला है। मानव धर्म की शिक्षा देने वाली यह एक महान संस्था है। उन्होंने कहा कि पृथ्वी की सुरक्षा के लिए अब आनंदवन से पूरे महाराष्ट्र को शिक्षा दिया जाएगा।
केंद्रीय मंत्री संजय धोत्रे के मार्गदर्शन में वृक्षारोपण के संबंध में डाक टिकट का पहला कवर आज जारी किया गया है। उनका भी इसके लिए धन्यवाद। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वह महानगर में घने जंगलों को बनाने के लिए वन कवर की उपयुक्त मियावाकी पद्धति को वन विभाग अपना रहा है। आनंद वन से इसकी शुरूआत हो रही है। उन्होंने इसकी भी घोषणा की।  उपस्थित जन समुदाय से उन्होंने कहा कि पृथ्वी का कर्ज उतारने की अपील की। वसुंधरा आपको ऑक्सीजन देती है। इसके बदले में हम क्या देते हैं। इसके लिए महज एक विकल्प है। इस कर्ज से कोई भी सरकार कर्ज माफी नहीं देने वाली है। इसके लिए वृक्षारोपण अभियान में भाग लेना होगा। इस तरह की अपील उन्होंने की।
शुरूआत में शंका करने वाले अब इस अभियान में सहभागी हो रहे है, हरित महाराष्ट्र के साथ हरित भारत करने का संकल्प आनंदवन की भूमि से जाना चाहिए। इस तरह का भी उन्होंने अपील इस अवसर पर की है।
            कार्यक्रम का प्रास्ताविक (परिचय देने वाले) वन विभाग के प्रधान सचिव विकास खारगे ने किया। आनंदल के ट्रस्टी और मुख्य कार्यकारी अधिकारी शीतल आमटे-करजगी ने आनंदवन के काम के बारे में जानकारी दी। इस कार्यक्रम में वन विभाग के कर्मचारियों को उनके उत्कृष्ट काम के लिए मुख्यमंत्री के हाथों सम्मानित किया गया।

००००

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा