स्वरुपचंद गोयल यांना मुख्यमंत्र्यांची श्रद्धांजली

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत




                                                                                                       
मुंबई, दि. 8 : परोपकारी कार्य अत्यंत निष्ठेने पूर्ण करणारे आणि वनवासींच्या उन्नतीसाठी सदैव झटणारे ज्येष्ठ समाजसेवी स्वरुपचंद गोयल यांच्या निधनाने एक संपन्न व्यक्तिमत्त्व लोप पावले आहे, अशा शब्दात मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस यांनी श्रद्धांजली अर्पण केली आहे.

मुख्यमंत्री आपल्या शोकसंदेशात म्हणतात, अखिल भारतीय वनबंधू परिषदेचे सर्वेसर्वा असलेले श्री स्वरुपचंद गोयल यांनी वनवासी क्षेत्रामध्ये केलेल्या सामाजिक कार्याच्या माध्यमातून समाजसेवेचे नवीन मापदंड निर्माण केले. वनवासी क्षेत्रातील संस्कार केंद्र, एकल विद्यालय, स्वास्थ्य केंद्र, सामाजिक केंद्र यांची स्थापना आणि विस्ताराचे मोठे श्रेय त्यांना जाते. वनवासींना स्वयंपूर्ण करुन त्यांची उन्नती व्हावी, यासाठी ते आयुष्यभर झटले. आपल्यासमवेत समाजातील विविध घटकांनाही त्या कार्यासाठी प्रवृत्त केले. मुंबईत गिरगाव चौपाटीवर आदर्श रामलीला समितीच्या माध्यमातून होणारे रामलीला सादरीकरण आणि राष्ट्रीय कवी संमेलनाच्या प्रवर्तकांपैकी एक म्हणून त्यांची ओळख होती. हरि सत्संग समितीच्या माध्यमातून त्यांनी भारतभर धार्मिक कथांचे आयोजन करतानाच त्याला समाजसेवेची जोड दिली. तब्बल 5 दशकांहून अधिक काळ त्यांनी समाजसेवेमध्ये झोकून देत एक आदर्श निर्माण केला.
----०----

मुख्यमंत्री ने स्वरुपचंद गोयल को
श्रद्धांजलि अर्पित की
                                                                                                 
मुंबई, दि. 8 : पूरी निष्ठा से परोपकारी कार्य करनेवाले एवं वनवासियों के उन्नति के लिए हमेशा कार्यरत वरिष्ठ समाजसेवी स्वरुपचंद गोयल के निधन से एक संपन्न व्यक्तिमत्त्व खो गया है, इन शब्दों में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।
मुख्यमंत्री ने अपने शोकसंदेश में कहा कि अखिल भारतीय वनबंधू परिषद के सर्वेसर्वा श्री. स्वरुपचंद गोयल ने वनवासी क्षेत्र में किए हुए सामाजिक कार्य के माध्यम से समाजसेवा का नया मापदंड निर्माण किया है। वनवासी क्षेत्र के संस्कार केंद्र, एकल विद्यालय, स्वास्थ्य केंद्र, सामाजिक केंद्र की स्थापना और उसका विस्तार का श्रेय उन्हें जाता है। वनवासियों को स्वयंपूर्ण कर उनकी उन्नति हो सके, इसके लिए वे हरस्मय प्रयासरत रहे है। अपने साथ-साथ समाज के विविध घटकों भी इस कार्य के लिए प्रेरित किया है। मुंबई में गिरगाव चौपाटी पर आदर्श रामलीला समिति के माध्यम से आयोजित रामलीला का प्रस्तुतीकरण और राष्ट्रीय कवि सम्मेलन के प्रवर्तकों में से एक के रूप में उनकी पहचान थी। हरि सत्संग समिति के माध्यम से उन्होंने भारतभर धार्मिक कथाओं का आयोजन करते हुए उसे समाजसेवा का साथ दिया है। तकरीबन 5 दशकों से अधिक समय उन्होंने समाजसेवा के लिए समर्पित कर एक आदर्श निर्माण किया है।

----०----

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा