राज्यातील नदीजोड प्रकल्प मिशन मोडमध्ये पूर्ण करण्याचे मुख्यमंत्र्यांचे निर्देश

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत




मुंबई, दि. 12 : राज्यातील नदीजोड प्रकल्पाच्या माध्यमातून मराठवाड्याच्या दुष्काळी परिस्थितीवर कायमस्वरुपी मात करण्यासाठी आणि ज्या भागात दुष्काळी परिस्थिती निर्माण झाली आहे,  अशा भागात पुढील पाच वर्षात हे प्रकल्प मिशन मोडमध्ये वेळेत पूर्ण करावेत, असे निर्देश मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस यांनी आज येथे दिले.


वर्षा निवासस्थानी दमणगंगा-पिंजाळ व नार-पार-दमणगंगा नदीजोड प्रकल्पासंदर्भात आयोजित बैठकीत मुख्यमंत्री बोलत होते. यावेळी जलसंपदामंत्री गिरीष महाजन, राज्यमंत्री विजय शिवतारे, नियोजन विभागाचे अपर मुख्य सचिव देबाशिष चक्रवर्ती, मुख्यमंत्र्यांचे प्रधान सचिव भूषण गगराणी, जलसंपदा विभागाचे प्रधान सचिव आय.एस.चहल आदी उपस्थित होते.


मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस म्हणाले, आंतरराज्यीय दमणगंगा -पिंजाळ नदीजोड प्रकल्प व राज्यांतर्गत नार-पार-गिरना, पार-गोदावरी-दमणगंगा-वैतरणा-गोदावरी- दमणगंगा-एकदरे-गोदावरी हे नदीजोड प्रकल्प राष्ट्रीय प्रकल्प म्हणून राबविण्याऐवजी राज्यांतर्गत प्रकल्प म्हणून राबविण्यासाठी लागणारा निधी उपलब्ध करुन देण्यात येईल. या माध्यमातून ज्या भागामध्ये पाणीसाठा उपलब्ध होईल. त्या भागात पाणीपुरवठ्याचा समतोल राखण्याची दक्षता घ्यावी आणि मराठवाड्याच्या दुष्काळी भागात पाणीपुरवठा कसा करता येईल याचे योग्य नियोजन करावे.


वरील नदीजोड प्रकल्प तीन महामंडळात विभागले आहेत. या प्रकल्पाच्या एकत्रित व एकसूत्री अंमलबजावणीसाठी थेट शासनांतर्गत स्वतंत्र मुख्य अभियंता कार्यालय (मुख्य अभियंता नदीजोड विशिष्ट प्रकल्प) स्थापन करावे. हे प्रकल्प पूर्ण करण्यासाठी काही अडचणी असल्यास त्यातून समन्वयाने योग्य तो मार्ग काढून लोककल्याणकारी प्रकल्प म्हणून कालमर्यादेत पूर्ण करावेत. त्यामुळे मराठवाडा आणि ज्या भागात दुष्काळ आहे, त्या भागात पाणीसाठा उपलब्ध होईल, असेही मुख्यमंत्र्यांनी यावेळी सांगितले. 
००००


राज्य में नदी जोड परियोजना
मिशन मोड पर पूरा करें
-मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस
मुंबई, दि. 12 : राज्य के नदी जोड प्रकल्प के माध्यम से मराठवाड़ा के सूखे के परिस्थिति पर हमेशा के लिए हल निकालने के लिए और जिस क्षेत्र में सूखे की परिस्थिति निर्माण हुई है ऐसे क्षेत्र में आनेवाले पांच सालों में यह प्रकल्प मिशन मोड में समय के साथ पूरा करें, यह मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इन्होंने आज यहां बताया।
          वर्षा निवास पर दमणगंगा-पिंजाळ एवं नार-पार-दमणगंगा नदीजोड प्रकल्प के संदर्भ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री बोल रहे थे। इस अवसर पर जलसंपदा मंत्री गिरीष महाजन, राज्यमंत्री विजय शिवतारे, नियोजन विभाग के अवर मुख्य सचिव देबाशीष चक्रवर्ती, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भूषण गगरानी, जलसंपदा विभाग के प्रधान सचिव आय. एस. चहल आदी उपस्थित थे।
         मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस इन्होंने कहा कि, आंतरराज्यीय दमणगंगा-पिंजाळ नदीजोड प्रकल्प तथा राज्या के अंतर्गत नार-पार-गिरना, पार-गोदावरी-दमणगंगा-वैतरणा-गोदावरी-दमणगंगा-एकदरे-गोदावरी यह नदीजोड प्रकल्प राष्ट्रीय प्रकल्प के तैर पर अमल करने के बजाय राज्य अंतर्गत प्रकल्प के तोर पर अमल करने के लिए लगनेवाला निधि उपलब्ध करके दिया जाएगा। इस माध्यम से जिस क्षेत्र में पानी संचय निर्माण हो जाएगा उस क्षेत्र में पानी वितरण का समतोल रखने का ख्याल रखें और मराठवाड़ा के सूखे क्षेत्र में पानी वितरण किस तरह से किया जाए इसका उचित नियोजन करें।
          उपरोक्त नदीजोड प्रकल्प तीन महामंडल में विभाजित है। इस प्रकल्प के एकत्रिकरन के लिए और एकसूत्री अमल के लिए सीधे शासन के तहत स्वतंत्र मुख्य अभियंता कार्यालय (मुख्य अभियंता नदीजोड विशिष्ट प्रकल्प) स्थापित किया जाए। यह प्रकल्प पूरा करने के लिए अगर कुछ समस्याएं हैं तो उसे समन्वय के माध्यम से उचित स्तर पर सुलझाकर जनकल्याणकारी प्रकल्प के तौर पर समय के अवधि में पूरा करें। इस वजह से मराठवाड़ा और जिस क्षेत्र में सूखे की स्थिति है उस क्षेत्र में पनी का संचय निर्माण होगा, यह भी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इन्होंने इस अवसर पर बताया।

००००

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत

टिप्पणी पोस्ट करा